टोल फ्री नंबर: 180-022-6753

माइक्रोफाइनेंस पल्स

एमएफआई पल्स रिपोर्ट का 18वां संस्करण 30 जून 2023 तक की अवधि के लिए ब्यूरो को सौंपे गए आंकड़ों पर आधारित है।

30 जून 2023 तक माइक्रोफाइनेंस उद्योग का बकाया संविभाग 1,201 लाख सक्रिय ऋण और 6 करोड़ अद्वितीय सक्रीय उधारकर्ताओं के साथ 330,261 करोड़ रुपये है। बकाया संविभाग के लिए एनबीएफसी- एमएफआई का सबसे अधिक योगदान है। बैंक, एनबीएफसी-एमएफआई और एसएफबी का अप्रैल मई जून'23 तिमाही में बकाया संविभाग और संवितरण राशि में 91% का योगदान है। बकाया संविभाग के मामले में माइक्रोफाइनेंस उद्योग जून 2022 की तुलना में जून 2023 में 24% बढ़ गया और मार्च 2023 की तुलना में जून 2023 में तिमाही-दर-तिमाही 11% की वृद्धि देखी गई। जून 2022 की तुलना में जून 2023 में एनबीएफसी में 51% की उच्चतम वार्षिक वृद्धि देखी गई।

अप्रैल मई जून'22 से अप्रैल मई जून''23 तक मूल्य के हिसाब से संवितरण में 30% और मात्रा के हिसाब से 18% की वार्षिक वृद्धि देखी गई। एनबीएफसी- एमएफआई ने अप्रैल मई जून''22 से अप्रैल मई जून'23 तक संवितरण राशि के मामले में 48% और ऋण संवितरण के मामले में 36% की उच्चतम वृद्धि देखी। सबसे अधिक संख्या में ऋण 40के-50के टिकट आकार श्रेणी के तहत जारी किए गए हैं और अप्रैल मई जून '22 से अप्रैल मई जून 23 तक 82% की वार्षिक वृद्धि देखी गई है। जून 2023 में जून 2022 की तुलना में सभी बकाया बकेट्स में गिरावट आई है। आकांक्षी जिलों में 30 जून 2023 तक संविभाग का बकाया 45,145 करोड़ रुपये है और जून 2022 की तुलना में जून 2023 में इसमें 22% की वृद्धि हुई। जुलाई 2022 से जून 2023 तक आकांक्षी जिलों में 48,396 करोड़ रुपये के ऋण संवितरित किये गये। इस संस्करण में हमने एमएफआई उद्योग के रुझानों की वर्ष-दर- वर्ष वृद्धि को कवर किया है। जून'23 तक, शीर्ष 10 राज्यों ने बकाया संविभाग में 83% योगदान किया है। संवितरण राशि के मामले में, उत्तर प्रदेश में जुलाई 2021-जून 2022 से जुलाई 2022- जून 2023 तक 37% की उच्चतम वार्षिक वृद्धि देखी गई है।

March, 2024
October, 2023
September, 2023
Microfinance Pulse - All Editions