टोल फ्री नंबर: 180-022-6753

वित्त, आय और व्यापार रैंक (एफआईटी रैंक)

वित्त, आय और व्यापार रैंक (एफआईटी रैंक)

सिबिल ने सिडबी के संरक्षण के तहत ऑनलाइन पीएसबी लोन्स लिमिटेड (ओपीएल) के सहयोग से एमएसएमई ऋण के लिए एक रैंकिंग मॉडल प्रदान करने की दृष्टि से वस्तु और सेवा कर (जीएसटी), बैंक विवरणी और आयकर विवरणी (आईटीआर) संबंधी जानकारी का लाभ उठाते हुए एफआईटी रैंक प्रप्र्म्भ किया है। रैंकिंग मॉडल मशीन द्वारा प्रयुक्त नियमों की प्रणाली का उपयोग करता है, ताकि अगले 12 महीनों में एमएसएमई के अनर्जक आस्ति (एनपीए) में परिवर्तन की संभावना पर पहुंचा जा सके, जो 1 से 10 के पैमाने पर उसके वित्तीय, आय और व्यापार आंकड़ों पर आधारित हो, जिसमें सबसे कम जोखिम वाले एमएसएमई के लिए एफआईटी रैंक 1 और सबसे अधिक जोखिम वाले एमएसएमई के लिए एफआईटी रैंक 10 । प्रत्येक एफआईटी रैंक चूक की संभावना (पीडी) से मेल खाती है और एफआईटी रैंक जितनी अधिक होगी, एमएसएमई से जुड़ी चूक की संभावना उतनी ही कम होगी।


एफआईटी रैंक एमएसएमई के लिए वित्तीय, आय और व्यापार डेटा का एक एकीकृत दृश्य प्रदान करने के लिए कई स्रोतों से जानकारी को त्रिकोणित करती है, जिससे एमएसएमई ऋणों के लिए बेहतर जोखिम विभेदन और तीव्र ऋण हामीदारी सक्षम होती है। सिडबी ने एमएसएमई के लिए एफआईटी रैंक का उपयोग करके सीधे प्रक्रियाओं के माध्यम से मशीनरी / उपकरण की खरीद के लिए ऋण प्रदान करने के लिए एक नया एक्सप्रेस ऋण उत्पाद का शुभारंभ किया है। एफआईटी रैंक का उपयोग जीएसटी सहाय प्लेटफॉर्म में भी किया जाएगा।

image